Barish Shayari Part 2

All Shayari Barish Shayari

Dosto ye barish shayari part 2 hai agr aapko shayari pasnd aaye to like kare comment kare or share kare.

Barish Shayari Part  2

Puchhte The Na Kitna Hai Tumhe Pyar Humse,
Lo Ab Gin Lo… Barish Ki Ye Boonden.

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हम से,
लो अब गिन लो… बारिश की ये बूँदें।

Kahi filhaal na sambhal jao sambhak ke chalna
Mausam barish ka bhi hai aur mohabbat ka bhi

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी

Jab Bhi Hogi Pahli Barish, Tumko Samne Payenge,
Wo Boondo Se Bhara Chehra Tumhara Hum Dekh To Payenge.

जब भी होगी पहली बारिश, तुमको सामने पायेंगे,
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम देख तो पायेंगे।

Jaar thaharo ke barish hai yah tham jaye to phir jana
Kisi ka tujh ko chhu lena mujhe accha nahi lagta

ज़रा ठहरो के बारिश है यह थम जाए तो फिर जाना
किसी का तुझ को छु लेना मुझे अच्छा नहीं लगता

Majbooriyan Odh Ke Nikalta Hun Ghar Se Aajkal,
Barna Shauk To Aaj Bhi Hai Barishon Me Bheegne Ka.

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का।

Barish Shayari Part 2

Kahin Fisal Na Jaun Tere Khayalo Me Chalte Chalte,
Apni Yaadon Ko Roko Mere Shahar Me Barish Ho Rahi Hai.

कहीं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते,
अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है।

Es barish ke mausam mein ajeeb si kashish hai,
Na chahte huye bhi koyi shiddat se yaad aata hai.

इस बारिश के मौसम में अजीब सी कशिश है,
न चाहते हुए भी कोई शिद्दत से याद आता है!

Ab bhi barsat ki raat mein badan tootta hai
Jag uthti hain ajab khwahishein angdaiyon ki

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की

Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है।

Khud ko itna bhi na bachaya kar
Barishein hua kare to bheeg jaya kar

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *