munawwar rana shayari

Munawwar Rana Shayari – Best Indian Modern Urdu Poet

All Shayari Shayar Shayari

Munawwar Rana’s Shayari

 

Hindi Urdu Ke jane maane shayar Munawwar rana ji ki Kuch Best Shayari hum aap logo ke liye le ke aaye hai. So aap log Munawwar ji ki Shayari Enjoy Kijiye or pasnd aaye to sath me comment bhi kihiye.

 

Best Maa Shayari

Aap Ko Chahre  Se Bhi Bimar Hona Chahiyee
Ishq Hai To Ishq Ka Ijjhar Hona Chahiyee

Zindgee Tu Kab Talak Dar-Dar Firayegi Hume
Tuta-Futa He Sahi Ghar-Bar Hona Chahiyee

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए

 

Laboo Pe Uske Kabhi Badduwa Nhi Hoti
Bas Ek Maa Hai Jo Mujhse Khafa Nhi Hoti

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती

 

Chalti Firti Aakho Se Aza Dekhi Hai
Maine Jannat To Nhi Dekhi Par Maa Dekhi Hai

चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है

 

Mujhe Kadhe Hue Takiye Ki Kya Jarurat Hai
Kisi Ka Hath Abhi Mere Sar Ke Nichhe Hai

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है

 

Maine Rote Hue Pochee Thee Kisi Din Aashuu
Muddato Maa Ne Nhi Dhoya Duppatta Apna

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

Best of Munawwar Rana

Is Tarah Mere Gunaahon Ko Wo dho Deti Hai
Maa Bahut Gusse Me Hoti Hai To Ro Deti Hai

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है

 

Jab Tak Raha Hu Dhoop Me Chadar Bana Raha
Mai Apni Maa Ka Aakhiri Jewar Bana Raha

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा

 

Khud Ko Es Bheed Me Tanha Nahi Hone Dengee
Maa Tujhe Hum Abhi Boodha Nahi Hone Dengee

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे

 

Kisi Ko Ghar Mila Hisse Me Kisi Ke Hisse Me Dukaan Aai
Main Ghar Mein Sabse Chhota Tha Mere Hisse Mein Maa Aai

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई

 

Yahin Rahoonga Kahin Umra Bhar Na Jaaunga
Zameen Maa Hai Ese Chhod Kar Na Jaaunga

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *