Desh Bhakti Shayari

Hello friends, hum aap logo ke liye josh se bhari hindi me desh bhakti shayari laaye hai Friends, if you like, please share it and if you have any suggestions, please comment or mail

Dusman Kaha Tik Pata Hai
Jab Tiranga Falk Tak Jata Hai
Baith Jate Hai Dushmano Ke Dil
Jab Ye Khule Gagan Me Lehrata Hai

दुश्मन कहाँ टिक पता है
जब तिरंगा फलक तक जाता है
बैठ जाते है दुश्मनो के दिल
जब ये खुले गगन में लहराता है

Jaan Tiranga Hi Hai
Saan Tiranga Hi Hai
Tiranga Hi Din-o-Dharm
Iman Tiranga Hi Hai

जान तिरंगा ही है
शान तिरंगा ही है
तिरंगा ही दीन-ओ-धर्म
ईमान तिरंगा ही है

shayari
indian flag

Desh Bhakti Shayari

Subh Bhi Tujhse Ho Meri Or
Tujhse Hi Ho Meri Shaam
Maru Jab Bhi Aee Bharat Maa
Aakho Me Tiranga Ho or Hotho Pe Tera Naam

सुबह भी तुझसे हो मेरी और
तुझसे ही हो मेरी शाम
मरू जब भी ऐ भारत माँ
आँखो में तिरंगा हो और होठो पे तेरा नाम

Bhagat singh ki pagdi
Aajad ki munccho ka tav
Unke desh ne unhe bhula diya
Jinhe agrej bhula na paaye

भगत सिंह की पगड़ी
आजाद की मूंछो का ताव
देश ने उन्हें भुला दिया
जिन्हे अंग्रेज भुला न पाएं

Jise Piro Rakkha Tha Shahido ne Apni Fasi k Fanndo Se
Bant Diya Us Desh Ko Netao Ne Jaat Paat ke Dhandho Se

जिसे पिरो के रखा था शहीदों ने अपनी फांसी के फंन्दो से
बाँट दिया उस देश को नेताओ ने जात पात के धंधो से

Har Baar Yahi Galti Kar Deta Hu
Jab Baat Hoti Hai Desh Ki
Main Bas Ek Naam Hindustaan Likh Deta Hu

हर बार यही गलती कर देता हूँ
जब बात होती है देश की
मैं बस एक नाम हिंदुस्तान लिख देता हूँ

Jaha Subh Ho Mandiro Ki Ghantiyo Se
Or Shame Hoti Hai Aajan Se
Har Baar Khud Ko Vaar Deta Hu
Mai Apne Hindustan Pe

जहाँ सुबह हो मंदिर की घंटियों से
और शामें होती है आजान से
हर बार खुद को वार देता हूँ
मैं अपने हिंदुस्तान पे

 

One thought on “Desh Bhakti Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *